संबंध

युवा संबंधो के मामले समझना मुश्किल है।

एक लडका और एक लडकी …

शायद एक स्मित से संबंध की शुरुआत होती है ।

समय के साथ संबंध बढता है ।

इस संबंध को नाम मिलता है ..
मित्र का ।

पहले तो उसमे केवल दोस्ती पलती है ।
दोस्ती प्यार मे कब पलटती है ..
कीसीको पता ही नहि चलता ।

प्यार .. प्रेम को पहचान पाना बडा ही मुश्किल है ।
क्युकी वह एक अदभुत एहसास है।

इस संबंध को जब तक नाम नहि मिल जाता रीश्ता बन नहि पाता ।

सामाजिक और पारिवारीक
रीश्तो से अलग …
अलग अलग – भीन्न परंपराओ मे
परवरिश पा कर …
एक दुजे का जीवन भर
साथ निभाने वाला रीश्ता ..
साथ निभाने वाला संबंध ..
सबसे कठीन रीश्ता
पति और पत्नि का ।

शादी करके पति पत्नि बनने के लिये …

लडकेका फैसला ..
लडकीका फैसला ..
शादी कराने लडकेके मातापिताका फैसला ..
शादी कराने लडकीके मातापिताका फैसला ..

पर हावी होते हुए
बिरादरी के लोगोकी
मान्यताए और रीती रिवाज …
के कारण कुछ संबंध
बनने से पहले ही दम तोड देते है ।

जीनको कोई लेना देना नहि होता
उनके फैसले माने जाते है …
जीनकी जिन्दगी है …
जीनको प्यारदुलार से बडा कीया
उनको पूछा तक नहि जाता के
वे क्या सोचते है …. क्या चाहते है ।

माना के बच्चे .. बच्चे है
और बुझुर्ग .. बुझुर्ग।
लेकिन याद रहे …
बच्चे जब बुझुर्ग बनेंगे तब
बुझुर्ग शायद दूनियासे चले गये हो ।

क्युं बुझुर्ग अपने ही बच्चो की
बडी खुशी के साथ
जूडे हुए फैसले करते समय
अपना बचपन भूल जाते है ?

शायद …. इसीलिये
युवा संबंधो के मामले समझना मुश्किल है ।

Advertisements

About અખિલ સુતરીઆ

મારા વિશે મારે કંઇક કહેવાનું હોય તો, .... થોડુ વિચારવું પડે. મને મારી ઓળખ કરાવે .... એવા એક જ્ણની તલાશમાં છું.
This entry was posted in રોજનીશી ૨૦૦૯. Bookmark the permalink.